शिक्षक दिवस पर निबंध । Essay on Teacher Day in Hindi । 2023

शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस

हर वर्ष 5 सितंबर को हमारे निस्स्वार्थ शिक्षकों को उनके बहुमूल्य कार्य को सम्मान देने के लिये शिक्षक दिवस मनाया जाता है। 5 सितंबर हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधकृष्णन का जन्मदिन है आइए अब हम

प्रस्तावना (Introduction):

शिक्षक दिवस ( Teacher day ) एक महत्वपूर्ण और उत्सवी दिन है, जो हर साल 5 सितंबर को मनाया जाता है। इस दिन हम अपने शिक्षकों का आभार व्यक्त करते हैं और उनके संदेशों को याद करते हैं। यह दिन शिक्षकों के प्रति हमारी आभारी भावना का प्रतीक होता है।

शिक्षक का महत्व (Importance of Teachers):

शिक्षक हमारे जीवन में अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे हमारे ज्ञान का स्रोत होते हैं और हमें सही मार्ग पर चलाने में मदद करते हैं। वे हमें न केवल पढ़ाते हैं, बल्कि अच्छे नागरिक बनने की मार्गदर्शन भी करते हैं। वे हमारे जीवन को दिशा देते हैं और हमें समझाते हैं कि कैसे सफल होना है। इसलिए, शिक्षकों का महत्व अत्यधिक है और इसके बिना हमारा जीवन अधूरा होता।

शिक्षक दिवस का महत्व (Significance of Teacher’s Day):

शिक्षक दिवस हमें यह अवसर प्रदान करता है कि हम अपने शिक्षकों के प्रति कितना आभारी हैं। यह दिन हमें उनके संदेशों को याद करने का मौका देता है और उन्हें अपनी श्रद्धांजलि देने का अवसर प्रदान करता है। इस दिन विद्यालयों और कॉलेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें छात्र अपने शिक्षकों के साथ समय बिताते हैं और उन्हें सम्मानित करते हैं।

शिक्षकों के योगदान (Contribution of Teachers):

शिक्षक हमारे समाज के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान करते हैं। वे नई पीढ़ियों को ज्ञान की ओर बढ़ने में मदद करते हैं और समझाते हैं कि शिक्षा क्यों महत्वपूर्ण है। शिक्षक न केवल विद्या देते हैं, बल्कि ये भी सिखाते हैं कि कैसे एक अच्छा इंसान बनना है।

शिक्षक दिवस का मनाने का तरीका (Celebration of Teacher’s Day):

शिक्षक दिवस का मनाने का तरीका विद्यालयों और कॉलेजों में विभिन्न तरीकों से किया जाता है। छात्र अपने पसंदीदा शिक्षकों के साथ समय बिताते हैं और उनको उनके योगदान के लिए सम्मानित करते हैं। कुछ स्थानों पर, शिक्षकों को सम्मानित किया जाता है और उन्हें पुरस्कृत किया जाता है। विभिन्न प्रतियोगिताओं और कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है, जिनमें छात्र अपने शिक्षकों के साथ हिस्सा लेते हैं।

भारत में शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है?

भारत में शिक्षक दिवस का मनाने का प्रमुख कारण शिक्षकों के महत्व को समझाना और उनके योगदान की सराहना करना है। शिक्षक दिवस 5 सितंबर को भारतीय शिक्षा के प्रमुख दिग्गजों में से एक, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है, जो खुद एक प्रमुख शिक्षाशास्त्री, दार्शनिक, और भारतीय गणराज्य के पहले उपराष्ट्रपति थे।

शिक्षक दिवस के दिन, छात्र अपने शिक्षकों के प्रति आभार और समर्पण का इज़हार करते हैं और उन्हें सम्मानित करते हैं। यह दिन शिक्षकों के योगदान को मान्यता देने का भी अवसर है, जिन्होंने छात्रों के जीवन को दिशा दी है और उन्हें नैतिक और विद्यानिक दृष्टिकोण में समर्थ बनाया है।

इस दिन, विद्यालयों और कॉलेजों में विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिनमें छात्र अपने शिक्षकों के साथ विभिन्न प्रतियोगिताओं, नाटक, और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेते हैं। यह एक दिन है जब शिक्षकों का सम्मान किया जाता है और छात्रों द्वारा उनका आभार व्यक्त किया जाता है, जिससे उनकी मोटिवेशन बढ़ती है और उनके योगदान की प्रशंसा होती है।

इसके साथ ही, शिक्षक दिवस भारतीय समाज में शिक्षा के महत्व को बढ़ावा देने का एक माध्यम भी है, जो हमें याद दिलाता है कि शिक्षा समाज के विकास और समृद्धि के लिए कितनी महत्वपूर्ण है।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के बारे में कुछ पंक्तियाँ:

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, जिनका जन्म 5 सितंबर 1888 को हुआ था, भारतीय समृद्धि के महान विचारक और शिक्षाविद् थे।

वे भारतीय गणराज्य के पहले उपराष्ट्रपति रहे और उन्होंने अपने कर्मभूमि में गर्वभाषी भूमिका निभाई।

उनके शिक्षासार के दृष्टिकोण और ज्ञान के प्रति प्यार ने छात्रों को प्रेरित किया और उन्हें शिक्षा के माध्यम से समृद्धि की दिशा में मार्गदर्शन किया।

उनके विचार और दर्शन का महत्व आज भी हमारे शिक्षा प्रणाली में है और हम उनके योगदान को कभी नहीं भूल सकते।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन शिक्षक दिवस के अवसर पर हमें उनके योगदान को याद करके उनका सम्मान करना चाहिए, क्योंकि वे हमारे शिक्षा के क्षेत्र में एक अद्भुत आदर्श थे।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

निष्कर्ष (Conclusion):

शिक्षक दिवस एक ऐसा दिन है जब हम अपने शिक्षकों के प्रति आभार और समर्पण व्यक्त करते हैं। यह दिन हमें याद दिलाता है कि शिक्षक हमारे जीवन में कितने महत्वपूर्ण होते हैं और हमें उनके संदेशों का पालन करना चाहिए। इसलिए, हमें इस दिन को ध्यानपूर्वक मनाना चाहिए और अपने शिक्षकों का सम्मान करना चाहिए।

आगे पढ़े महिला सशक्तिकरण पर निबंध

1 thought on “शिक्षक दिवस पर निबंध । Essay on Teacher Day in Hindi । 2023”

Leave a comment